Kaavyansh

  मन पर घिरे साए
जब तुम्हारी याद के मन पर घिरे साए
ज़िन्दगी में गुलमोहर के फूल मुस्काए
प्राण की वंशी स्वयं बजने लगी
मन शिखर की सीढियाँ चढने लगा
जैसे अनपढ पाठशाला में पहुँच
प्रीति का खुद व्याकरण पढने लगा
जिन्दगी ने जिन्दगी के अर्थ समझाए
जब तुम्हारी याद के मन पर घिरे साए
चन्दनी खुशबू के झोंकों में नहा
फिर हरा मन का मरूस्थल हो गया
जब नदी आकर मिली तो जलधि का
दूर खारापन उसी पल हो गया
प्यासी धरती पर घुमड कर मेघ घिर आए
जब तुम्हारी याद के मन पर घिरे साए
भावना ने छू लिया दिल का गगन
रेशमी सपने नयन में बस गए
जब तुम्हें देखा तो मुझको यूँ लगा
जो भी थे अपने, नयन में बस गए
कल्पना के पाँखियों ने पँख फैलाए
जब तुम्हारी याद के मन पर घिरे साए
  तुम्हारी याद आए बिन
काटे से कटता नहीं है दिन
अब तुम्हारी याद आए बिन
साथ में शुभ आहटें लेकर समय
मेरे द्वारे पर कभी आया नहीं
चाँदनी आग़ोश में लेता हुआ
चाँद भी तेरे बिना भाया नहीं
आलपिन से चुभ रहे पल-छिन
अब तुम्हारी याद आए बिन
मन के आँगन में मना त्यौहार भी
बिन तुम्हारे सूना-सूना हो गया
जितना ज्यादा भूलना चाहा तुम्हें
उतना ज्यादा दर्द दूना हो गया
आँख से आँसू झरे अनगिन
अब तुम्हारी याद आए बिन
नयन तकते हैं तुम्हारी राह को
हर तरफ मिलती तुम्हारी आहटें
तुम बिना सपने सलौने खो गये
अब सिमटती जा रहीं सब चाहतें
कट रहे दिन उँगलियों पर गिन
अब तुम्हारी याद आए बिन